October 5, 2022

Hindibiz

हिन्दी में जानकारी

चना सत्तू के फायदे|Benefits of Chana Sattu

chana sattu pine ke fayde

चना सत्तू के फायदे (Benefits of Chana Sattu)-

चना सत्तू जिसे आप खाने में खा भी सकते हैं और पी भी सकते हैं। इसे विभिन्न प्रकार के भोज्य पदार्थों में भी उपयोग में ला सकते हैं। वैसे तो यह भारत के लगभग सभी राज्यों के लोगों के द्वारा सेवन किया जाता है, लेकिन यूपी और बिहार के लोग इसका प्रायः उपयोग करते हैं। यह गर्मियों में ज्यादातर खाया और पेय पदार्थ के रूप में पीया जाता है। सत्तू के बहुत स्वादिष्ट पराठे और कचौड़ी जैसे डिश बनती है जिसे हम लिटी भी कहते हैं जो चोखा के साथ खाये जाने पर बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। सत्तू हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद है, इसमें बहुत से गुण मौजूद होते हैं। आज हम सत्तू के फायदे के बारे में चर्चा करेंगे।

चना सत्तू प्रोटीन का एक बहुत ही अच्छा स्तोत्र है , अगर आप सौ ग्राम चने सत्तू का सेवन करते हैं तो आपको लगभग 20 ग्राम प्रोटीन मिल जाता है। सत्तू फाइबर से भरपूर होता है, और कार्बोहाइड्रेट भी मौजूद होता है।

त्वचा के लिए फायदे ( Benefits for skin)-

सत्तू हमारी त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है, यह हमारी त्वचा को हाइड्रेट रखता है, शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर करता है। यह शरीर में क्षतिग्रस्त कोशिकाओं के पुनर्निर्माण में बहुत ही अच्छा योगदान देती है। यह हमारे शरीर में ऊर्जा को बनाए रखती है , यह हमारे बालों के लिए भी पोषक तत्व का एक अच्छा स्तोत्र है। यह कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है, शरीर को ऊर्जा (Energy) से भरपूर रखता है। यह हमें आयरन (Iron) का स्तोत्र भी प्रदान करता है।

पेट के लिए फायदे ( Benefits for stomach)-

जैसा की मैंने पहले ही बताया की सत्तू में फाइबर मौजूद होता है , यह कब्ज (Constipation) और अपच (Indigestion) जैसी समस्याओं से हमें दूर रखता है। यह हमारे पेट को ठंडा रखता है और गर्मियों के दिनों में हमारे शरीर के तापमान को अच्छा रखता है और लू (Heat stroke) से बचाने का काम भी करता है।

मधुमेह के मरीजों के लिए फायदे (Benefits for diabetic patients) –

सत्तू मधुमेह के मरीजों के लिए एक बहुत ही अच्छा खाद्य पदार्थ है , क्योंकि इसमें लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स (low glycemic index) मौजूद है जिसकी वजह से मधुमेह के रोगियों में शुगर (Sugar) की मात्रा संतुलित रहती है।

कॉलेस्ट्रोल एवं उच्च रक्तचाप में फायदे (Benefits in cholesterol and high blood pressure) –

सत्तू फाइबर (Fiber) से भरपूर होता है, और इसमें सोडियम की मात्रा भी कम होती है जिसकी वजह से उन लोगों के लिए यह काफी फायदेमंद है जिन्हें फैट या कॉलेस्ट्रोल (Fat and cholesterol) की समस्या हो साथ ही उच्च रक्तचाप (High blood pressure) से ग्रसित व्यक्ति के लिए भी यह बहुत ही फायदेमंद है।

वजन कम करने में (In losing weight)-

कई बार हमारा वजन बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसकी वजह से हम काफी परेशान हो जाते हैं, खुद में असुरक्षित महसूस करते हैं, और बिना कुछ सोचे समझे डाइटिंग शुरु कर देते हैं, जिससे वजन तो कम नहीं होता लेकिन शरीर में कमजोरी आ जाती है, इसीलिए सत्तू वजन कम करने का एक अच्छा विकल्प है जिससे आपके शरीर में ऊर्जा बनी रहेगी और शरीर को भरपूर मात्रा में फाइबर मिलेगा जिससे आप आसानी से अपना वजन कम कर सकते हैं।

सत्तू का उपयोग(Use of sattu) –

प्रोटीन ड्रिंक (Protein Shake)

Gym जाने के आधे घंटे पहले आप 300 ml पानी में 4 spoon sattu पाउडर में 1 spoon flex seed powder और 1 spoon peanut butter  को मिलाकर आप एक protein shake बना सकते हैं  जो आपके शरीर में muscle बिल्ड करने में सहायता करेगा।

सत्तू का आटा (Sattu flour) –

सत्तू का आटा सानकर इसमें हल्का नमक मिलाकर इसे प्याज, अचार या चटनी के साथ कहा सकते हैं। यह खाने में बहुत ही स्वादिष्ट लगता है।

सत्तू आटे की लिटी (Liti of sattu flour)  –

सत्तू में प्याज, लहसुन, अचार, धनिया, हरी मिर्च , नमक, अजवाइन और सरसों का तेल मिलाकर एक मिश्रण बनाकर इसे आलू के पराठे की तरह भर कर सेकें या फिर इसे गोल बाटी की तरह फ्राई करके भी इसे खा सकते हैं। इसका स्वाद तो क्या ही बोलें, इसका आनंद आप ठंड और बरसात में अच्छे से ले सकते हैं।

सत्तू का सरबत (Sattu Sarbat) –

सत्तू को आप शर्बत की तरह भी पी सकते हैं, जिम (Gym) जाने वालों के लिए यह एक बहुत ही अच्छा प्रोटीन पाउडर है। आप अपने हिसाब से हल्का नमक या शक्कर (Salt or sugar)के साथ शर्बत पी सकते हैं, ध्यान रहे की नमक और शक्कर की मात्रा काफी कम हो।

सत्तू के बहुत से फायदे हैं, आप नियमित रूप से इसका सेवन कर सकते हैं लेकिन मात्रा का ध्यान अवश्य रखें । अधिकता में किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन गलत होता है। शरीर को जितनी जिस चीज की आवश्यकता हो उतनी ही मात्रा में उसे प्रदान करें।

अन्य पूछे जाने वाले प्रश्न –

Que. – सत्तू कब और कैसे पिए?

Ans. – सत्तू सुबह खाली पेट सरबत के रूप में पिया और खाया जा सकता है। इसे खाली पेट लें।

Que. – क्या है गैस की समस्या पैदा करता है? 

Ans. – जी हाँ, ज्यादा मात्रा में यह गैस की समस्या उत्पन्न करता है इसलिए मात्रा सही लें।

 

अन्य पढ़े – 

छत्तीसगढ़ में पाये जाने वाले कुछ खरपतवार पौधे और उनका बीमारियों में उपयोग

ध्यान मस्तिष्क और शरीर में जीन की अभिव्यक्ति को बदलता है

दवाई क्या है , यह मनुष्य के शरीर में काम कैसे करती है

Leave a Reply

Your email address will not be published.