बालों ,दिमाग तथा चेहरे के लिए कौन सा तेल बेहतर है जैतून का तेल या नारियल का तेल ?| Which is better for hair, brain and face, olive oil or coconut oil in Hindi?

Contents hide

हम अपनी दैनिक दिनचर्या में तेल का उपयोग खाने में , बालों में लगाने में, त्वचा को निखारने में , मालिश करने में या फिर किसी सौन्दर्य प्रसाधन में भी उपयोग में लाते हैं। अब बात यह है की हम कुछ तेल को खाने में उपयोग में लाते हैं, कुछ को बालों में लगाने के लिए उपयोग में लाते हैं, लेकिन सबसे बड़ी बात यह है की ऐसे कौन से तेल हैं जो हमारी सेहत को भी अच्छा रखते हैं, हमारी त्वचा के लिए भी उपयोगी हैं और और हम इन्हें खाने के लिए भी उपयोग में लाते हैं। आज हम ऐसे ही दो प्रकार के तेलों की बात करेंगे जिसे हम खाने में भी उपयोग में ला सकते हैं नारियल का तेल (Coconut oil), बालों में भी उपयोग में ला सकते हैं, त्वचा के लिए भी उपयोग में ला सकते हैं और सौन्दर्य प्रसाधनों में भी उपयोग में ला सकते हैं, और वह तेल हैं जैतून का तेल (Olive oil) इसे हम एक्सट्रा वर्जिन ऑइल (Extra virgin oil)भी कहते हैं और नारियल का तेल(Coconut oil)। आइए बात करते हैं कौन सा तेल है हमारी सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद।

जैतून का तेल (Olive oil)-

1.त्वचा के लिए (For skin)-

जैतून के तेल में विटामिन ए, ई , दी और के (A, E, D and K)मौजूद होते हैं जो हमारी सेहत के लिए तो अच्छे होते ही होते हैं साथ ही हमारी त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद होता है, और क्योंकि इसमें एंटिओक्सीडेंट्स भी मौजूद होते हैं और साथ ही विटामिन E भी खुद एक एंटिओक्सीडेंट् है, जो की हमारी त्वचा को वृद्ध (Ageing) से बचाते हैं। हमारे शरीर में फ्री रैडीकल्स (Free radicals) बनते हैं, जो की हमारी त्वचा को। हमारी कोशिकाओं को काफी नुकसान पहुँचाते हैं, और इनसे बचने के लिए एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) हमारे लियते बहुत ही जरूरी हैं। एंटिओक्सीडेंट्स फ्री रैडीकल्स (Free radicals)को शरीर से बाहर करने का काम करते हैं। यह त्वचा की चमक को बढ़ाते हैं, और त्वचा में कसावट बनाए रखते हैं। यह त्वचा को कई प्रकार के संक्रमण (Infection)से भी बचाते हैं और मोइश्चराइयजर (Moeistrizer) का भी कम करते हैं। चेहरे पर झाइयों (Wrinkles) के लिए, दाग (Scars) के लिए भी उपयोग में लाये जाते हैं।

इसे भी पढ़े  तनाव से राहत और बेहतर मूड के लिए योग | Yoga for Stress Relief and Improved Mood in Hindi

2. हृदय के लिए (For heart) –

जैतून के तेल में पॉलीफेनोल्स (Polyphenols) मौजूद होते हैं जो की एंटिओक्सीडेंट् का कार्य करते हैं, साथ ही ऑक्सीडेटिव स्ट्रैस (Oxidative stress)से बचाते हैं, यह एक ऐसा स्ट्रैस है जो हमारे शरीर के सामान्य प्रोटीन, लिपिड और डीएनए (Protein, lilpid and DNA) को नुकसान पहुँचाते हैं, जिसकी वजह से हम मधुमेह (Diabetes), हृदय रोग (Heart disease), डिमेंसिया (Dementia) और कैंसर (Cancer) जैसी खतरनाक बीमारी से हम प्रभावित होते हैं।ओलियोकैंथल और हाइड्रॉक्सीटायरोसोल ( oleocanthal and hydroxytyrosol ) जैसे पॉलीफेनोल्स (Polyphenols) मौजूद होते हैं, जिनमें एंटिओक्सीडेंट् के गुण होते हैं, कैंसर से लड़ने में सहायक है, एंटिमाइक्रोबियल (Antimicrobial) और एंटिइंफ्लामेट्रि (Anti-inflammatory)और न्यूरोप्रोटेक्टिव (Neuroprotective) मतलब नर्व कोशिकाओं (Nerve cells) को क्षतिग्रस्त होने से , या उनके पतन (Degeneration)होने से उन्हें बचाता है। जैतून का तेल हमारे शरीर में एलडीएल (LDL) जिसे हम बैड कॉलेस्ट्रोल (Bad Cholesterol) भी कहते हैं, का संतुलन शरीर में बनाए रखता है, LDL हृदय रोगों के लिए जिम्मेदार है और साथ ही हृदयघात (Heart diseases and heart attack)के लिए भी, अतः जैतून के तेल के सेवन से इसकी संभवना काफी कम हो जाती है। यह उच्च रक्तचाप को भी कम करता है और संतुलन में सहायक है , जिसकी वजह से हम हृदय रोगों से बच जाते हैं। साथ ही यह हमें कैंसर से तो बचाता ही है और हमारी याददाश्त को भी बढ़ाने का काम करता है।

3. वजन को नियंत्रित करने के लिए (To control weight)-

जैतून का तेल हमारे रक्त में शुगर (Blood sugar) की मात्रा को नियंत्रित करता है, जिसकी वजह से हमारे शरीर में यह कार्ब की लालसा (Carb craving) को कम करता है, और हमें वजन को कम करने में सहायता करता है। इसलिए भी यह हमारी सेहत के लिए काफी लाभदायक है।

4. बालों के लिए (For hairs) –

यह हमारे बालों को पोषण प्रदान करता है, रूखेपन (Dryness) से बचाता है, इन्हें मजबूती प्रदान करता है। बालों को झड़ने (hairfall)से, रूसी (Dandruff) से बचाता है। साथ ही बालों को क्षतिग्रस्त (Damage) hone से बचाता है।

Important Links

Join Our Whatsapp Group Join Whatsapp

जैतून का तेल हमारे शरीर के साथ- साथ शरीर के हर अंग (Part) के लिए भी काफी फायदेमंद है। यह सौन्दर्य प्रसाधनों (Cosmetics)में भी उपयोग आता है, मालिश के लिए उपयोगी है। आप इसका उपयोग घरेलू नुस्कों में (Home made remedies) में भी कर सकते हैं, यह हर तरीके से हमारे लिए फायदेमंद है। अब हम बात करेंगे नारियल तेल (Coconut oil) की , इसके क्या फायदे हैं और यह किन-किन चीजों में उपयोगी है और जैतून के तेल से कितना बेहतर है या नहीं है।

इसे भी पढ़े  सोच और चिंता से ऊपजा मानसिक तनाव | Mental stress caused by thinking and worrying

नारियल का तेल (Coconut oil) –

1. त्वचा के लिए (For skin)-

नारियल का तेल हमारी त्वचा के लिए अच्छा होता है, इसे पोषण प्रदान करता है, इसमें लौरिक एसिड (Lauric acid) मौजूद होता है जो की हमारी त्वचा के लिए एंटिबैक्टीरियल और एंटिफंगल (Antibacterial and Antifungal) का काम करता है। यह कई बार सर्दियों में जम (Freeze) जाता है, और इसे उपयोग में लाने में दिक्कत होती है। इसमें कम मात्रा में फैटी एसिड के चैन (Fatty acid chain) मौजूद होते हैं, जो त्वचा को हाइड्रेट रखते हैं,खुजली, एक्जिमा (Eczema) जैसे संक्रमण के लिए काफी उपयोगी हैं। नारियल के तेल को कई बार कपूर(Camphor) के साथ मिलाकर कीड़े के काटने पर या उससे होने वाले दाग (Scar) पर उपयोग में लाया जाता है, जिससे दाग भी गायब होते हैं और संक्रमण भी ठीक होते हैं।

2. हृदय के लिए (For heart)-

हम सभी जानते हैं की हमारे हृदय और शरीर दोनों के लिए गुड कॉलेस्ट्रोल जिसे हम एचडीएल (HDL) भी कहते हैं, यह हमारे हृदय के लिए काफी फायदेमंद होता है। नारियल के तेल में एचडीएल (HDL) मौजूद होता है, जो हमारे हृदय को स्वस्थ रखने का काम करता है। लेकिन शोधों के अनुसार इसमें ट्राईग्लिसराइड्स (Triglycerides) मीडियम फैटी चैन मौजूद होते हैं जो की हमारे शरीर में अन्य नुकसानदेह कॉलेस्ट्रोल जैसे LDL की मात्रा को बढ़ाते हैं, जो हृदय रोगों के साथ-साथ अन्य कई खतरनाक रोगों को भी बढ़ावा देते हैं। पर कई बार नारियल का तेल कीटो डाइट (Keto diet) में उपयोग में लाया जाता है,क्योकि इसमें कार्ब (Carb) की मात्रा काफी कम होती है और फैट की ज्यादा, साथ ही यह हमें काफी ऊर्जा (Energy) प्रदान करता है, जिसकी वजह से भूख भी कम लगती है। शोधों के अनुसार यह तेल मिर्गी (Epilepsy) जैसी बीमारियों के उपचार में भी उपयोगी है। इसके अलावा यह अन्य बीमारियों जैसे वात रोग (आर्थेराइटिस) और मधुमेह जैसे बीमारियों से भी बचाता है।

3. वजन को नियंत्रित करने के लिए (To control weight)-

जैसा की मैंने पहले ही बताया की इसमें कार्ब्स (Carbs) कम मात्रा में होता है और फैट मौजूद होता है, जिसकी वजह से यह हमारी भूख की मात्रा को कम करता है और हमें ऊर्जा प्रदान करता है, और वजन को नियंत्रित करने में सहायक है।

4. बालों के लिए (For hairs) –

यह हमारे बालों को मजबूती प्रदान करता है, यह बालों को काला घना और मजबूत बनाता है। यह बालों को दोमुंहा (Split ends) होने से बचाते हैं, और बालों को गिरने (Hairfall)और क्षतिग्रस्त ( Damage) होने से बचाता है। सोरायसिस (Psoriasis)जैसे संक्रमण से हमारा बचाव करता है। यह शैंपू में, आयुर्वेदिक तेलों में उपयोग में लाया जाता जो बालों को मुलायम बनाए रखता है।

फायदेमंद –

जैतून का तेल या नारियल का तेल (Beneficial – olive oil or coconut oil)-

वैसे तो फायदेमंद दोनों ही तेल हैं लेकिन अगर अगर सभी बिन्दुओं पर ध्यान दिया जाए तो जैतून का तेल हमारे लिए ज्यादा फायदेमंद है क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड मौजूद होता है और साथ ही एंटिओक्सीडेंट्स भी भरपूर मात्रा में जैतून के तेल में मौजूद होते है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है

इसे भी पढ़े  ध्यान मस्तिष्क और शरीर में जीन की अभिव्यक्ति को बदलता है | Meditation alters the expression of genes in the brain and body

Frequently Asked Questions

प्रश्न 1 – नारियल या जैतून कौन सा तेल बेहतर है?

उत्तर – जैतून के तेल को आम तौर पर नारियल के तेल की तुलना में एक स्वस्थ विकल्प माना जाता है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा कम होती है और मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसेचुरेटेड वसा अधिक होती है, जिन्हें “अच्छी” वसा माना जाता है।

अन्य पढ़े – 

पैपिलोमा वायरस संक्रमण क्या है, प्रकार, कारण, लक्षण ,उपचार एवं बचाव

चना सत्तू के फायदे

छत्तीसगढ़ में पाये जाने वाले कुछ खरपतवार पौधे और उनका बीमारियों में उपयोग

Leave a Comment

Important Links

Join Our Whatsapp Group Join Whatsapp