December 3, 2022

Hindibiz

हिन्दी में जानकारी

कीवी फल के फायदे – शरीर और त्वचा के लिए |Benefits of kiwi fruit – for body and skin in hindi

Benefits of Kiwi fruit - for body and skin
Contents hide

आज हम बात करेंगे एक ऐसे फल के बारे में जो अपने फायदे के लिए तो प्रसिद्ध (Famous) है ही लेकिन अपनी सुंदरता के लिए और भी ज्यादा प्रसिद्ध है । उस फल का नाम है कीवी जिसके बहुत सारे फायदे हैं चाहे वह हमारे पूरे शरीर के लिए फायदेमंद हो या शरीर के किसी एक अंग के लिए। कीवी का फल हमारे लिए हर तरीके से बहुत फायदेमंद है। कीवी फल में बहुत सारे न्यूट्रिएंट्स (Nutrients) मौजूद होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है जिसकी वजह से इसे सुपरफूड (Superfood) की श्रेणी (Category) में रखा जाता है।

कीवी का स्तोत्र (Source of kiwi) –

कीवी फल का वानस्पतिक स्तोत्र (Biological source) एक्टिनिडिया डेलिसिओसा (Actinidia deliciosa) है जो की एक्टिनिडिएसी (Actinidiaceae)
परिवार (Family) से संबंध रखता है। कीवी फल को चाइनीज अंगूर (Chinese gooseberry) भी कहा जाता है। कीवी फल खाने और देखने दोनों में बहुत अच्छा लगता है। यह बाहर से भूरा और अंदर से हरे रंग का होता है।

कीवी में मौजूद पोषक तत्व (Nutrients in Kiwi) –

कीवी में बहुत से पोषक तत्व मौजूद होते हैं जिसमें सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला पोषक तत्व है विटामिन सी (Vitamin C), विटामिन के (Vitamin k), विटामिन ई (Vitamin E), फोलेट (Folate) और कॉपर (Copper) प्रचुर मात्रा में पाया जाता है , इसके अलावा प्रोटीन (Protein),फाइबर (Fiber), मैग्निशियम (Magnesium) और पोटैसियम (Potassium) भी मौजूद होते हैं। कीवी में मौजूद विटामिन सी एक बहुत ही शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant) है , जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक है, यह हमें बहुत सी बीमारियों से बचाता है।

कीवी खाने के फायदे (Benefits of eating kiwi) –

कीवी हमारे शरीर के हर अंग के लिए फायदेमंद है –

1.मधुमेह के लिए (For diabetes) –

कीवी का फल मधुमेह के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है, यह रक्त (Blood) में बढ़े हुए शर्करा (Sugar) के लेवल को संतुलित रखने में काफी सहायक है, इसलिए मधुमेह के मरीजों को कीवी का सेवन करना चाहिए।

2.कैंसर से बचाव (cancer prevention)-

कीवी में विटामिन सी (Vitamin C), विटामिन के (Vitamin k) और विटामिन ई (Vitamin E)पाये जाते हैं जो की एंटीओक्सीडेंट्स (Anti-oxidants) हैं,
यह शरीर को क्षति (Damage) पहुँचाने वाले फ्री रैडिकल्स (Free radicals) से हमारा बचाव करते हैं,और यह कैंसर (Cancer) से भी हमारा बचाव करते हैं।

3.कब्ज से निजात (Relief from constipation) –

कीवी फाइबर से परिपूर्ण होता है जो की कब्ज (Constipation) जैसी समस्या को भी दूर रखता है साथ ही यह कोलोरैक्टल कैंसर (Colorectal cancer) से भी
बचाव में सहायक है क्योंकि यह एंटीओक्सीडेंट्स (Anti-oxidants)से परिपूर्ण है साथ ही इसमें फाइबर भी मौजूद होता है।

4.हृदय रोगों से बचाव (Prevention of heart diseases) –

कीवी में फाइबर और पोटैसियम (Potassium)मौजूद होता है , पोटैसियम (Potassium) हमारे हृदय (Heart) के लिए बहुत ही अच्छा होता है। यह हमारे हृदय की कार्यशैली को संतुलित बनाए रखता है जिससे हृदय रोगों की संभावना काफी कम हो जाती है, इसलिए कीवी का सेवन अवश्य करें। इसके अलावा यह रक्तचाप (Blood pressure)जैसी बीमारियों को संतुलित करता है।

5.गर्भावस्था के दौरान (During pregnancy)-

कीवी में फोलेट (Folate) मौजूद होता है जो फॉलिक एसिड में परिवर्तित होता है और हमारे शरीर में रक्त के निर्माण और अन्य कोशिकाओं के निर्माण एवं कार्य में सहायक है। इसके अलावा गर्भावस्था में महिलाओं को भी फॉलिक एसिड की जरूरत होती है ताकि बच्चे की कोशिकाओं के निर्माण में कोई दिक्कत ना हो , इसलिए गर्भवती (Pregnant) महिलाओं को कीवी का सेवन करना चाहिए।

6.त्वचा के लिए (To skin) –

कीवी में मौजूद एंटिओक्सीडेंट्स वृद्धवस्था (Ageing) की प्रक्रिया को धीमा करते हैं, यह त्वचा के लिए काफी स्वास्थ्यप्रद है। यह त्वचा की कोशिकाओं को स्वस्थ रखता है जिससे चेहरे पर चमक बनी रहती है और बढ़ती हुई उम्र का असर त्वचा और शरीर दोनों पर ही होता है , इसलिए कीवी का सेवन करना बहुत ही अच्छा है।

7.स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली (Healthy immune system)-

क्योंकि कीवी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में मौजूद होता जो की हमें कई बीमारियों से बचाता है और एंटिबोडिस (Antibodies) बनाने में भी सहायक है जिसकी वजह से यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है।

8.एंटिइन्फ्लामेटरी गुण (Anti-inflammatory properties) –

कीवी में एंटिइन्फ्लामेटरी गुण (Anti-inflammatory properties) गुण मौजूद होते हैं जो शरीर को सूजन और जलन (Inflammation) से बचाते है।

9.हड्डियों के स्वास्थ्य में और थक्का बनने में (Bone health and clotting) –

कीवी में विटामिन के (Vitamin K) और कैल्सियम(Calcium) के कुछ अंश या ट्रैसेस (Traces) पाये जाते हैं जो चोट लगने पर थक्का जमाने और हड्डियों को मजबूत
रखने में उपयोगी है । इसलिए भी कीवी का सेवन उपयोगी है।

10.सामान्य फ्लू या डेंगू के फ्लू में (In common flu or dengue flu) –

कीवी में विटामिन सी (Vitamin C) की प्रचुरता हमें सामान्य बुखार और डेंगू जैसे बुखार से बचाती है , साथ ही प्लेटलेट्स (Platelets) में कमी को विटामिन सी बढ़ाने
में सहायक होता है , इसलिए यह डेंगु बुखार में भी काफी सहायक सिद्ध होता है।

11. गठिया में उपयोगी (Useful in gout) –

कीवी का रस (Juice) गठिया के रोग में काफी उपयोगी है, इसके रस में कुछ एंजाइम्स के समूह पाये जाते हैं जो की गठिया जैसे रोगों से बचाव एवं निजात दिलाने में काफी उपयोगी है। इसलिए गठिया से ग्रसित लोगों को कीवी के फल एवं रस का उपयोग करना चाहिए।

कीवी के प्रकार (Types of kiwis) –

1.फजी कीवी (Fuzzy kiwi) –

इसे एक्टिनिडिया डेलिसिओसा (Actinidia deliciosa)के नाम से जाना जाता है , इसे फजी कीवी या चाइनीज कीवी (Chinese kiwi) भी कहते हैं।

2.हार्डी कीवी (Hardy kiwi) –

इसका वानस्पतिक नाम एक्टिनिडिया अर्गुटा(Actinidia arguta)है, इसे हार्डी कीवी भी कहा जाता है।

3.आर्कटिक कीवी (Arctik kiwi)-

एक्टिनिडिया कोलोमिक्टा (Actinidia kolomikta) इसका वानस्पतिक नाम है, इसे आर्कटिक कीवी (Arctik kiwi)के नाम से जाना जाता है।

4.गोल्डन कीवी (Golden kiwi) –

गोल्डन कीवी का वानस्पतिक नाम एक्टिनिडिया चिनेंसिस (Actinidia chinensis)है ।

5.पर्पल कीवी (Purple kiwi) –

इसका वानस्पतिक नाम एक्टिनिडिया पुरपुरिया (Actinidia purpurea) है , और पर्पल कीवी के नाम से भी जाना जाता है।

यह कुछ कीवी के प्रकार हैं जो अलग – अलग क्षेत्रों या कह लें देशों के हिसाब से भी पायी जाती हैं।

सबसे बेहतर कीवी फल(Best kiwi fruit) –

शरीर के लिए सबसे बेहतर कीवी फजी कीवी (Fuzzy kiwi)या ग्रीन कीवी मतलब एक्टिनिडिया डेलिसिओसा (Actinidia deliciosa)और गोल्डेन कीवी मतलब एक्टिनिडिया चिनेंसिस (Actinidia chinensis)है , जिसमें सबसे ज्यादा प्रचुर मात्रा में विटामिन सी मौजूद होता है।

मौसमी फल खाने से शरीर को बहुत फायदे मिलते हैं, इसलिए मौसमी फलों का सेवन अवश्य करें और रोगों से बचें।

अन्य पढ़े – 

इटिंग डिसऑर्डर (खाने का विकार) – एक मनोरोग

जेनेरिक या ब्रांडेड कौन सी दवा है बेहतर ?

खीरे खाने के फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *