October 5, 2022

Hindibiz

हिन्दी में जानकारी

7 चाय जो चिंता को शांत करने में मदद कर सकते हैं | 7 Teas That Can Help Calm Anxiety

7 Teas That Can Help Calm Anxiety

सुबह की शुरुवात एक कप चाय के साथ। चाय एक ऐसा पेय पदार्थ है जिसे हर कोई पसंद करता है। जब हम थकें हो या सर्दियों का मौसम हो हम चाय को ही याद करते हैं। अगर कोई टेंशन हो तब भी हम चाय का ही सहारा लेते हैं। वैसे तो हम काली चाय, दूध वाली चाय का ही सहारा ज्यादा लेते हैं पर आज हम बात करेंगे कुछ ऐसे प्रकार की चाय के बारे में जो हमें ना केवल तनाव से मुक्ति दिलाती है बल्कि हमारी सेहत के लिए भी काफी लाभदायक होती है। तो हम बात करते हैं कुछ ऐसी ही चायों के बारे में जो हमारी सेहत के साथ-साथ एंग्जायटी (Anxiety), स्ट्रैस (Stress) से भी हमें राहत पहुँचाती है और सेहत को भी सही रखती है।

1.पिपरमिंट टी (Pippermint tea) –

यह पिपरमिंट के पौधों की पत्तियों को पानी में उबाल कर बनाया जाता है। इसकी पत्तियों में फिनोलिक कम्पाउन्ड (Phenolic compound) और एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं जो हमारे लिए काफी लाभदायक होते हैं। यह चाय हमारे डाइजेशन (Digestion) को इंप्रूव करती है, हमें कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से दूर रखती है। दर्द और तनाव से राहत देती है। इसे पीने के बाद हम काफी तरो-ताजा महसूस करते हैं। इसमें एंटिमाइक्रोबियल प्रॉपर्टी (Antimicrobial property) भी मौजूद होती है जो हमें माइक्रोब्स (Microbes) से भी बचाने का काम करती है।

2.ग्रीन टी (Green tea) –

ग्रीन टी लीफ में प्रचुर मात्रा में एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) पाया जाता है। यह टी हमारे लिए काफी फायदेमंद है। यह हमें कई तरह के कैंसर जैसे ब्रेस्ट कैंसर, लंग कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर से बचाती है। क्योंकि एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) हमारी त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद है तो यह हमारी त्वचा को भी अच्छा रखती है। यह हमारे पाचन तंत्र को भी मजबूत रखती है और साथ ही शरीर में जमी एक्सट्रा चर्बी को भी कम करती है।शोधों के अनुसार यह हमारे कॉलेस्ट्रोल लेवल को संतुलित रखने में, मधुमेह को संतुलित रखने में और स्ट्रोक के खतरे को काफी हद तक कम करने में सहायक है।

3.जिंजर टी (Ginger tea) –

जिंजर मतलब अदरक। सर्दियों में हम सभी चाय में अदरक का उपयोग करते हैं। अदरक में विटामिन C,मैग्निसियम और अन्य मिनेरल्स से भरपूर होता है। क्योंकि यह भी एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) से भरपूर है तो हमारे लिए काफी फायदेमंद है। यह मानसिक तनाव को कम करने, माहवारी के दर्द को कम करने में, रक्त के प्रवाह को नियमित रखने में, सूजन को कम करने में, पाचन को सही करने में और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने काफी फायदेमंद है। यह हमारे हृदय को स्वस्थ रखने और उच्च रक्तचाप के संतुलन के लिए काफी सहायक है। क्योंकि यह एंटिओक्सीडेंट्स से भरपूर है इसलिए यह हमें कैंसर से दूर रखने में, वजन को संतुलित रखने में और मधुमेह जैसे बीमारी में उत्तपन्न होने वाले फ्री रैडिकल से बचाता है।

4.कैमोमाइल टी (Chamomile tea)-

यह चाय हमारे नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करने का कम करती है, तनाव को दूर करती है जिससे हमारी नींद बेहतर होती है। कैमोमाइल टी भी एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) से भरपूर होती है। यह हमें कैंसर से दूर रखने, हमारे ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने,हमारे हृदय को स्वस्थ रखने और पाचन को दुरूरुस्त करने में काफी सहायक है। अगर कोई सर्दी-खांसी से परेशान है, या किसी कोई मसल स्पास्म (एंठन) से परेशान है तो यह चाय उसके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। यह पेट दर्द, त्वचा, छोटे-मोटे घाव के लिए भी अच्छा होता क्योंकि इसमें एंटि-माइक्रोबियल प्रॉपर्टि होती है, जो छोटे -मोटे घावों को ठीक करने में सहायक है। यह पिंपल्स को ठीक करने और उसके दाग को दूर करने में भी सहायता करता है क्योंकि इसमें एंटि-इंफलामेटरी प्रॉपर्टी होती है।

5.लेमनग्रास टी (Lemongrass tea) –

इस चाय की खुशबू का क्या कहना। लेमनग्रास की पत्तियाँ हम चाय के लिए उपयोग में लाते हैं और इसमें भी एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants)मौजूद होते हैं और हमारे शरीर में बनने वाले हानिकारक फ्री रेडिकल्स (Free radicals)से बचाते हैं। यह हमें स्ट्रैस, एंजाइटी से राहत पहुँचाती है। इसमें एंटि-माइक्रोबियल और एंटि-इंफ़्लमेटरी (Antimicrobial, antiinflammatory) गुण मौजूद होते हैं । साथ है यह हमें कैंसर जैसे खतरनाक रोगों से बचाती है। यह हमारे डाइजेशन को सही रखती है, रक्तचाप को नियंत्रित रखती है, हमारे शरीर में नैचुरल डाइयूरेटिक्स (Diuretics- यूरिन के उत्पादन को प्रेरित करने वाले तत्व) का कम करती है। इन्फ़ैकशन से दूर रखती है, दर्द में राहत देती है और कॉलेस्ट्रोल लेवल को कम करती है।

6.सिन्नामोन टी (cinnamon tea) –

सिन्नामोन मतलब दालचीनी । अक्सर हम इसे मसाले के तौर पर सब्जी में या पुलाव में उपयोग में लाते हैं। पर इसकी चाय हमारे लिए काफी सेहतमंद होती है और हम इसे काढ़ा बनाने में भी उपयोग में लाते हैं केवल इसके औषधीय गुणों की वजह से । यह पॉलीफेनोल्स (Polyphenols)जैसे पावरफूल एंटिओक्सीडेंट्स से भरपूर होती है। यह हृदय रोगों के खतरे को कम करती है। इसमें बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण से बचाती है, इंसुलिन के उत्पादन और सही से काम करने को प्रेरित करती है, मधुमेह के संतुलन में सहायक है और फ्री रैडिकल्स से होने वाली हानि से हमें बचाती है। शोधों के अनुसार सिन्नामोन एचआईवी (HIV) जैसे गंभीर रोगों से भी लड़ने में सहायक है। यह हमारे न्यूरॉन्स को भी स्वस्थ रखने में सहायक है। इसके साथ ही यह माहवारी में होने वाले दर्द से राहत पहुँचाती है, रक्तचाप को संतुलित रखने में भी सहायक है।

7.अश्वगंधा टी (Ashwagandha tea) –

अश्वगंधा हमें स्ट्रैस और एंजाइटी से राहत पहुँचाने में बहुत ही कारगर है। कई शोधों में यह भी पाया गया है कि ब्लड शुगर कि मात्रा को भी कम करने में सहायक है। यह डिप्रेशन जैसे स्थिति में भी इससे उबरने में सहायक है मतलब यह एक एंटिडिप्रेसेंट (Anti-depressant) एजेंट कि तरह काम करती है।शोधों के अनुसार यह हमारे दिमाक के कार्य-क्षमता और प्रजनन क्षमता को बढ़ाती है। इसमें भी एंटि-इंफलामेटरी गुण मौजूद होते हैं जिसकी वजह से यह सूजन काम करने में भी सहायक है।

8.तुलसी टी (Tulsi tea) –

तुलसी, हर्बल टी का एक अभिन्न अंग । तुलसी पत्ती के बहुत से फायदे हैं और इसमें बहुत से औषधीय गुण मौजूद होते हैं। लगभग सभी घरों में यह महत्वपूर्ण औषधीय पौधा पाया जाता है। यह हमें कॉमन कोल्ड, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, कफ जैसे समस्याओं से हमें दूर रखती है। साथ ही यह कफ को बाहर निकालने में सहायक है। ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करती है, स्ट्रैस को कम करती है। क्योंकि तुलसी की पत्तियों में एंटि-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं तो यह हमें बैक्टीरिया से होने वाले रोगों से दूर भी रखती है। तुलसी की पत्तियों में फ्लावोनोइड्स (Flavonoids) मौजूद होते हैं, विटामिन C,विटामिन A, जिंक और कैल्सियम जैसे मिनेरल्स भी मौजूद होते हैं। क्योंकि यह भी एंटिओक्सीडेंट्स (Antioxidants) से भरपूर है तो यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाती है, हमें कई खतरनाक रोगों से बचाती है और हमारी त्वचा के लिए भी काफी लाभदायक है,झाइयों, पिंपल्स से त्वचा को सुरक्षित रखती है। किडनी स्टोन जैसे रोग के उपचार में सहायक है और वजन को भी कम करने में सहायक है।

जैसा हमने कई प्रकार की चायों के बारे में देखा,सभी में भरपूर मात्रा में एंटिओक्सीडेंट्स मौजूद है जो हमें हानिकारक तत्वों से तो बचाते ही हैं, साथ ही हमारी त्वचा को सही रखते हैं, पाचन को सही रखते हैं, कैंसर जैसी अन्य कई खतरनाक बीमारियों से बचाते हैं। और सबसे महत्वपूर्ण बात यह नैचुरल टी हैं और हमें तनाव से मुक्त रखती हैं और तरो-ताजा महसूस कराती है। इसीलिए जब भी आपका चाय पीने का मन हो आपको तनाव से मुक्ति पानी हो तो इनमें से एक चाय का चुनाव अवश्य करें।

अन्य पढ़े – 

प्रोटीन, विटामिन और एंटिओक्सीडेंट्स से भरपूर भोजन और फल

हमेशा थका होना – क्या स्लीप एपनिया के लक्षण हैं त्वचा को सुरक्षित कैसे रखें- त्वचा का ख्याल आपके हाथों में

मास्क पहन कर कूल कैसे रहें और क्यों है जरूरी

किडनी फ़ेल्युर क्या है, प्रकार, लक्षण, कारण और उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.