चेहरे पर झाइयाँ – क्या खूबसूरती पर दाग है?|Freckles on the face – is it a blemish on beauty?

चेहरे पर झाइयाँ – क्या खूबसूरती पर दाग है?(Freckles on the face – is it a blemish on beauty?)

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं एक ऐसी समस्या की जो लगभग एक आयु के बाद सभी को होती है। अब आप सोच रहे होंगे की ऐसी कौन से समस्या है जो एक उम्र के बाद बहुत से लोगों को होने लगती है, तो हम बात कर रहेहैं झाइयों (freckles)की। झाइयाँ एक ऐसी समस्या है जो ज्यादातर हमारे चेहरे पर ही होता है, और यह बिल्कुल चाँद पर जैसे दाग होते हैं वैसे ही दिखते हैं। अब अगर आपका रंग साफ है तो फिर अब क्या ही बोलें, मतलब व्यक्ति को यह समझ नहीं आता है की इसे मेकअप से छुपाएँ, या दवाई से ठीक करें या क्रीम लगाएँ , क्या करें। अब यह एक ऐसी समस्या है जो ना क्रीम से ठीक होती है ना मेकअप करने से । तो अब आप पूछेंगे के यह ठीक कैसे होगा, और होगा भी या नहीं। तो चलिये देखते हैं आगे।

झाइयाँ होती क्यूँ है – (Why are there freckles?)

जैसा के हम सभी जानते हैं की हमारी त्वचा का कुदरती रंग हमारे शरीर में मौजूद एक पिगमेंट (Pigment) जिसका नाम मेलेनिन (Melanin)है, जिसके अधिक उत्पादन की वजह से त्वचा पर गहरे रंग के धब्बे दिखाई देने लगते हैं। कई बार ज्यादा धूप भी झाइयों का कारण बन सकता है, क्योंकि सूरज की रोशनी की वजह से मेलेनोसाइट्स (Melanocytes)कोशिकाओं (Cells) की संख्या में वृद्धि होने लगती है, जो की मेलेनिन (Melanin)नामक वर्ण (Pigment) का स्त्राव अधिकता में करने लगता है , और यही कई बार झाइयों मुख्य कारण भी होता है। इसके अलावा झाइयों के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे की-

इसे भी पढ़े  फेस क्लीन करने के टिप्स | Face Cleansing Tips in Hindi

1.संतुलित खान-पान ना होना।
2.जीवन में ज्यादा तनाव।
3.रात में देर तक जागना।
4.दिनचर्या का अस्त-व्यस्त होना।

यह सब कारण हो सकते हैं जिनकी वजह से त्वचा में झाइयाँ हो सकती हैं।

झाइयों से बचने के उपाय – (Ways to avoid freckles)-

झाइयाँ किसी को भी पसंद नहीं होती, क्योंकि यह हमारी खूबसूरती को खराब करने का काम करती हैं। कई बार हम इसे ठीक करने के लिए बहुत से उपाय अपनाते हैं, लेकिन थक- हार कर बैठ जाते हैं। इसके पीछे कारण यह है की हम त्वचा को ऊपर से बचाने के लिए तो सारे काम करते हैं लेकिन झाइयों की असली जड़ जो होती है उस पर हमारा ध्यान बिलकुल नहीं जाता है। अब आप सोच रहे होंगे की ऐसा क्या है जो आपने अपनी झाइयों को दूर करने के लिए नहीं किया तो मैं बता दूँ वह है आपका आहार, आपका संतुलित खान-पान । अब आपको लग रहा होगा हम तो सब खाते हैं, अच्छा खाते हैं लेकिन ऐसा हो नहीं पाता है, जिसकी वजह से झाइयाँ क्या और अन्य बीमारियाँ भी हो जाती हैं। चलिये देखते हैं झाइयों से बचने के कुछ उपाय –

Important Links

Join Our Whatsapp Group Join Whatsapp

1.सूरज की रोशनी से बचें (Avoid sunlight)-

जैसा की मैंने पहले ही कहा की यह झाइयों का एक मुख्य कारण हो सकता है, तो आपको सूरज की रोशनी से बचना चाहिए , खासकर गर्मी में तो और ज्यादा शरीर को कवर कर के रखें, क्योंकि सबसे ज्यादा खतरनाक सूरज की किरणें गर्मी में ही होती हैं जो मेलेनिन का स्त्राव बहुत ज्यादा बढ़ा सकते हैं, जो की आपकी त्वचा पर झाइयों का कारण बन सकता हैं, इसलिए त्वचा को धक कर रखें, गर्मियों में सूती के ढीले- ढाले कपड़ों का उपयोग करें। कभी भी चेहरे को धोने के बाद रगड़कर ना पोछें, यह भी आपको त्वचा में बदलाव का कारण हो सकता है।

2.त्वचा की साफ-सफाई (skin cleansing)-

त्वचा की अच्छी तरह साफ-सफाई करें, ऐसे केमिकल्स का उपयोग ना करें जो की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाएं और मेलेनिन के स्त्राव को बढ़ाने का भी काम करें। ऐसे ब्युटि प्रोडक्टस (Beauty Products) से बिल्कुल बचें।

इसे भी पढ़े  10 स्किनकेयर प्रोडक्ट और सही सीरम: जवां और खूबसूरत त्वचा के लिए | 10 skincare products and the perfect serum: for youthful and beautiful skin in Hindi

3.पानी का अधिकता में सेवन (excessive water intake)-

जैसा की हम सभी जानते हैं की हमारा शरीर 70 प्रतिशत पानी से ही बना हुआ है, अतः इसकी पूर्ति बहुत ही आवश्यक है। शरीर में पानी की सही मात्रा हमारे शरीर में मौजूद अनावश्यक अपशिष्ट (Toxins) पदार्थों को बाहर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिसकी वजह से हमारी त्वचा हमेशा हाइड्रेट (Hydrate)रहती और त्वचा को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन भी मिलती है और त्वचा खिली-खिली होती हैऔर रूखी भी नहीं पड़ती है, इसलिए पानी का भरपूर मात्रा में सेवन बहुत आवश्यक है।

4.खान-पान का ध्यान रखें (take care of diet)-

कई बार हमारा खान-पान ही हमारी बीमारियों का कारण बनता है, अब आप सोच रहे होंगे कैसे तो वो ऐसे की खाने में हम संतुलित आहार को छोड़ सब कुछ खाते हैं जैसे बर्गर , पिज्जा, मिठाइयाँ, चॉकलेट, कोल्डरिंक्स इत्यादि। अब देखिये हम खाना खाकर कहीं निकले हों और कोई समोसा ऑफर करें तब भी हम खा लेंगे और फिर पेट भारी लगने लगेगा, बाद में पेट साफ नहीं होगा, फिर कब्ज होने लगेगी और हो सकता है या सिलसिला 4-5 दिन चले। अब सोचिए 5 दिन में शरीर में खाना खाने के बाद भी पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलेंगे क्योंकि उपापचय (Metabolism) सही नहीं रहेगा जिसकी वजह से पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलेंगे और बीमारियाँ खुद चल के आएँगी। इसलिए सही समय पर खाना खाएं, खाने में पोषक तत्व और फाइबर्स (Nutrients and fibers)अधिकतम मात्रा में लें ताकि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत रहे और आप बीमारियों से बच सकें।

खान-पान हमारे लिए सबसे मत्वपूर्ण कारक होता है , इसलिए सही समय पर खाना खाये, थोड़ा टहलें तब ही बिस्तर पर सोने जाएँ।

5. सही नींद लें (get proper sleep) –

नींद भी हमारी त्वचा को अच्छी रखने में एक महत्वपूर्ण कारक है, अगर आप पूरी नींद लेते हैं और सही समय पर सोते हैं तो आपकी त्वचा को आराम करने का भरपूर मौका मिलता है और त्वचा की कोशिकाएं बहुत अच्छी तरीके से कार्य करती हैं जिससे त्वचा में किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न नहीं होती है और ना ही आँखों के नीचे काले घेरों (Dark circles)की समस्या आती है।

6.त्वचा को रूखी होने से बचाएं (protect skin from dryness) –

कई बार हॉर्मोन के असंतुलित होने की वजह से जैसे थाइरोइएड होर्मोन (Thyroid hormone) की वजह से त्वचा बहुत ज्यादा रूखी हो जाती है, और फिर धीरे-धीरे त्वचा में बहुत सी समस्याएँ होने लगती है और त्वचा पहले की तरह चिकनी नहीं रह पाती जो हमारे लिए रूखी त्वचा के लिए जिम्मेदार होता है और यह भी हमारे लिए झाइयों का कारण बन सकता है। इसलिए पानी ज्यादा पियें और त्वचा में मॉइस्चराइजर जरूर लगाएँ, आप चाहें तो थोड़ा ग्लिसरीन भी लगा सकते हैं, ताकि त्वचा रूखी ना हो।

इसे भी पढ़े  त्वचा को सुरक्षित कैसे रखें- त्वचा का ख्याल आपके हाथों में| How to keep your skin safe – Skin care is in your hands in Hindi

एंटिओक्सीडेंट्स की भूमिका – कितना महत्वपूर्ण ? (Role of Antioxidants – How Important?)

एंटिओक्सीडेंट्स हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, यह हमारे शरीर में बनने वाले फ्री रैडिकल्स (Free radicals) जो की हमारी त्वचा को वृद्ध बनाने, झाइयों को उत्पन्न करने और हमारे शरीर में कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाने के लिए जिम्मेदार है, इससे यह हमारा बचाव करता है। अगर आपके शरीर में ज्यादा मात्रा में फ्री रैडिकल्स (Free radicals)बन रहें है तो यह आपको और आपकी त्वचा को जल्दी वृद्ध कर सकते हैं, इसलिए हमारे शरीर में एंटिओक्सीडेंट्स की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। एंटिओक्सीडेंट्स हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune system) को मजबूत बनाते हैं और बीमारियों से दूर रखते है और त्वचा में कसावट बनाए रखते हैं और चमक भी । इसलिए एंटिओक्सीडेंट्स की मात्रा किसी भी खाद्य से अवश्य लें।

चेहरे पर झाइयाँ बहुत ही ज्यादा खराब लगती इसलिए इससे बचने के लिए सबसे पहले धूप से बचाव करें, खाना संतुलित हो, ऐसे फलों का सेवन अवश्य करें जिसमें भरपूर मात्रा एंटिओक्सीडेंट्स मौजूद हों, और त्वचा की देखभाल करें, जब भी आपको ऐसा महसूस हो की त्वचा पर कहीं झाइयाँ हो रही तो तुरंत ही अपनी दिनचर्या बदलें, खाना संतुलित करें, एंटिओक्सीडेंट्स से भरपूर फलों का सेवन करें और साथ ही व्यायाम और योगा अवश्य करें ताकि पसीने के माध्यम से शरीर और त्वचा की सारी गंदगी बाहर हो। स्वस्थ्य जीवन ही हमारी सबसे बड़ी पूँजी है।

अन्य पढ़े – 

एच थ्री एन टू वायरस (H3N2)क्या है और यह कितना भयानक है

सीएचडी (CHD- Congenital heart defects)- एक जन्मजात हृदय रोग

चेचक और खसरा क्या हैं, इनके बीच अंतर , लक्षण, प्रसार , उपचार और रोकथाम

Leave a Comment

Important Links

Join Our Whatsapp Group Join Whatsapp